सुरेश चंद्र बोध और उनकी पत्नी जयंती को अंबेडकर सोसायटी द्वारा सम्मानित किया

कैपशन-सुरेश चंद्र बोध और उनकी पत्नी जयंती को अंबेडकर सोसायटी द्वारा सम्मानित करते हुऐ सोसायटी के महासचिव धर्म पाल पेंथर और अंबेडकरी चिंतक निरवैर सिंह व अन्य

हुसैनपुर (समाज वीकली) (कौड़ा)-  भारतीय बोध महासभा पंजाब के महासचिव श्री सुरेश चंद्र बोध और उनकी पत्नी श्रीमति जयंती को बाबा साहिब डा बी आर अंबेडकर सोसायटी रजि. रेल कोच फैक्ट्री कपूरथला की ओर से समाज प्रति निभाई गई सेवाओं के बदले सम्मानित किया गया। श्री सुरेश चंद्र बोध ने जहां रेल कोच फैक्ट्रीे में बतौर सीनियर तकनीशियन अपनी सेवाएं प्रदान की है। उसके साथ साथ श्री गुरू रविदास सेवक सभा, आल इंडिया एससी/एसटी रेलवे कर्मचारी एसोसिएशन में बतौर कैशियर के अलावा भारतीय बौद्ध महासभा पंजाब के महासचिव होते हुए अंबेडकर बुद्ध विहार ट्रस्ट की स्थामपना की।

इस मौके पर सोसायटी के महासचिव धर्म पाल पेंथर और अंबेडकरी चिंतक निरवैर सिंह ने कहा कि उन लोगों को हमेशा याद रखा जाता है जो परिवारक जिम्मेदारियों के साथ साथ महापुरुषों की ओर से दर्शाये मिशन पर चल कर समाज सेवा के कार्ये को बखूबी निभाते हैं। अलग अलग संस्थाओं में अलग अलग पदों पर बहुत ही  ईमानदारी और लगन से काम और संस्थाओं को उंचा उठाने के लिए  सार्थक यत्न किये । बाबा साहिब डा अंबेडकर जी के अंतिम संदेश बुद्ध धर्म के प्रचार प्रसार के लिए रेल कोच फैक्ट्री के नजदीक जमीन खरीदने में अहम भूमिका निभाई ।

बाबा साहिब डा अंबेडकर सोसायटी ऐसे परिवार को सम्मानित करके गर्व महसूस करती है। डा अंबेडकर सोसायटी को दस हजार रुपये का आर्थिक सहयोग भी दिया, इस समागम में विशेष तौर पर दिल्ली से पहुँचे डैलीगेट जिन में डॉ सुमेधा धानी प्रोफ़ेसर एम डी यूनिवर्सिटी रोहतक,  डॉ कालिन्दी प्रोफ़ेसर जी जे यूनिवर्सिटी  एवं डॉ पूनम सीनियर मैडिकल ऑफीसर गोहाना हरियाणा को भी भारतीय संविधान देकर सम्मानित किया गया। इस मौके पर डॉ सुमेधा धानी के अलावा डॉ पूनम ने भी अपने विचार पेश करते हुए कहा कि सोसायटी की ओर से किया गया सम्मा़न हमारे जीवन में एक अभुल यादगार बन गई है।

अपने सम्मान समारोह में बोलते हुए श्री सुरेश चंद्र बोध ने बाबा साहिब डॉ बी आर अंबेडकर सोसायटी का धन्यगवाद किया। श्री बोध ने कहा कि बाबा साहिब डा अंबेडकर जी ने पढ़े लिखे लोगों को पे बैक टू सोसायटी का संदेश दिया, जिस पर मैं हमेशा चलने की कोशिश की है। बौद्ध धर्म के प्रचार प्रसार के लिए दिन रात एक किया जिस का नतीजा आज रेल कोच फैकट्री में 200 से ज्यादा परिवार बौद्ध धर्म के अनुयायी बन कर बाबा साहिब के कारवां को आगे बढ़ाने के लिये तन मन धन से सेवाओं प्रदान कर रहे हैं। समागाम में सोसायटी के उप प्रधान निर्मल सिंह, डॉ अमनदीप भट्टी, जसपाल सिंह चौहान, एससी/एसटी के जोनल वर्किंग प्रधान रणजीत सिंह एवं करनैल सिंह बेला आदि शामिल थे।