बाल झड़ने से छुटकारा

(समाज वीकली)

आज कल बाल झड़ना आम बात हो रही है। एक समय था जब किसी-किसी को ये समस्या होती थी। इसका अधिकतर
कारण जेनेटिक/खानदानी होता था। पर जिस तरह आज कल जे गंजापन सब को डस रहा है उस हिसाब से बात साफ़ है
कि इसका कारण जेनेटिक नहीं हैं l समस्या के हल के लिए हम महंगे उत्पादों के चक्कर में फस कर हज़ारों रूपए बर्बाद कर बैठते हैं, पर हल नहीं मिलता। मार्किट प्रोपेगंडा ही इतना हैं के हम हानिकारक उत्पादों के शिकार हो ही जातें हैं। आओ इस समस्या के हल के बारे में बात करते हैं।

बालों की सफाई के लिए हम जो शैम्पू जा साबुन इस्तेमाल करते हैं वह हानिकारक रसायनों जैसे सल्फेट, पाराबीन आदि
से भरपूर होते हैं। ये रसायन अधिकतर जाग पैदा करने के लिए इस्तेमाल होते हैं। बचपन में एक विज्ञापन आता था,
"शैम्पू जैसी झाग लाये ***निखार साबून "। विज्ञापनों ने हमारी मानसिकता ऐसी बना दी है कि अधिक जाग मतलब अधिक अच्छा शैम्पू ! जे झाग पैदा करने वाले रसायन बालों की जड़ों को नुक्सान पहुँचातें हैं, और बाल झड़ने लगते हैं।

विकल्प के रूप में खट्टी लस्सी से, आमला, शिकाकाई, रीठा के पाउडर से बाल धोना ही सही है। बस पानी में पाउडर
मिलाओ और बालों में लगा लो, या खट्टी लस्सी को बालों में लगा लो फिर पानी से धो लो। हाँ इससे झाग नहीं आएगी।
अगर शैम्पू का प्रयोग करना ही है तो बिना रसायन वाले का करो। आज-कल कई रसायन-मुक्त शैम्पू मार्किट में आ रहे हैं, इनमे रसायन/केमिकल्स नामात्र होते हैं। ये उत्पाद ऑनलाइन ढूंढे जा सकते हैं। बस उसके ingredients को ज़रूर चेक कर लेना चाहिए। आप की सुविधा के लिए मैं कुछ रसायन-मुक्त शैम्पू/साबुन के नाम बता रहा हूँ :
-Jeevanras Mukti Gold Hairwash,
-Golisoda All Natural Probiotics Palm Oil-free Shampoo Bar,
-Earthy Sapo Shikakai & Multani Shampoo Bar,
-Vilvah Store – Nutrient Rich Goat Milk Shampoo,
-The Moms Co. Natural Protein Shampoo,
-Rustic Art Aloe Clary Sage Shampoo,
-Just Herbs-Ayurvedic Soya Protein Shampoo.

मार्किट में बालों के लिए जो तेल आ रहे हैं उनमें भी अधिकतर मात्रा खनिज-तेल की होती है। जी हाँ, आमला तेल, चमेली
का तेल, बादाम तेल आदि के नाम पर हमें खनिज तेल यानि मिनरल-आयल ही बेचा जा रहा है। तसल्ली के लिए आप
इन तेलों की सामग्री सूची जानि ingredients लिस्ट पढ़ सकते हो। इसमें आपको मिनरल-आयल, खुशबू, बनावटी रंग
आदि की ही भरमार मिलेगी।

जिनसे बालों को नुक्सान ही पहुंचता है। सो आगे से जब भी तेल खरीदें तो उनकी सौ प्रतिशत शुद्धता ज़रूर सुनिश्चित कर ले। सर्दियों के लिए अरंडी, तिल, बादाम का तेल सही रहेगा, क्योंकि इनकी तासीर गर्म होती है। गर्मियों के लिए नारियल का वर्जिन तेल बेस्ट है क्योकि इसकी तासीर ठंडी होती हैं और ये तरल रूप में उपलब्ध होता है । सरसों का तेल तो हमेशा बढ़िया है ही , और पोषक तत्वों को बढाने के लिए बैद्यनाथ का महाभृंगराज तेल भी इस्तेमाल कर सकते हैं। कोशिश करें बाल धोने से कम् से कम् एक-दो घंटे पहले बालों में तेल लगा ले, फिर धोएं।

तपिश हमारे बालों के लिए हानिकारक है। गर्म पानी से बाल धोना, रोजाना हेयर ड्रायर का प्रयोग, धुप में अधिक रहना, ये सब बालों के लिए हानिकारक हैं, इस लिए सीधी तेज धुप बालों पर न पढ़ने दें। धुप में निकलने से पहले बालों को अच्छी तरह से ढक लें। बालों पर मार्किट के अधिक प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल न करें, अगर किया भी है तो रात को सोने से पहले इसे धो ले। गीले बालों को मसलना, तौलिये से रगड़ना, कंघी करना आदि बालों को कमजोर करता है। जिससे वह टूटने लगते हैं। बालों को कस कर बांधने से भी बाल टूटते हैं। इसलिए ऐसा न करें। ज़्यादा चिंता सेहत के लिए हानिकारक हैं, इसका दुष्प्रभाव बालों पर भी पढता है, इस लिए चिंता से बचें। चिंता से मुक्ति के लिए डेल कार्नेगी की पुस्तक b' चिंता से मुक्ति ' काफी उपयोगी है।

बालों के झड़ने का एक प्रमुख कारण शरीर में DHT हार्मोन्स का बढ़ना है। इसके हल के लिए DHT को कम् करने वाली
खाने की चीज़ें जैसे मैथी के बीज, बादाम, केले, गाजर, मशरूम आदि को खाने में शामिल करना चाहिए। बाल झड़ने में पोषक तत्वों की कमी एक प्रमुख कारण है। फ़ास्ट फ़ूड, बाज़ारू तला-भुजा खाना जैसे बर्गर, नूडल्स, पैकेज वाले सनैक्स, कोल्ड ड्रिंक्स आदि में पोषक तत्त्व कम् होते हैं, ऊपर से ये सब सेहत के लिए हानिकारक भी होते है।

बालों को पोषण नहीं मिलेगा तो बाल टूटेंगे ही। बॉल प्रोटीन से बनते हैं , इस लिए बालों की मजबूती के लिए प्रोटीन की बहुत आवशकता होती हैं। चने, राजमाह, छोले, सभी दालें, पनीर, ये सब प्रोटीन के अच्छे स्रोत है। इसके साथ-साथ और
पोषक तत्त्व जैसे वसा (fat ), मिनरल्स (minerals ), विटामिन्स खास कर विटामिन- C भी बहुत ज़रूरी है। हरी पत्तेदार सब्जीआं, पीले फल, आमला, निम्बू आदि को अपने भोजन में शामिल करना चाहिए। उचित पानी पीएं। रोजाना
३-५ ताजा कड़ी के पत्ते अच्छी तरह चबा कर खाने से भी बहुत लाभ मिलता है।

बालों तक पोषण खून द्वारा पहुंचता है। यदि बालों तक खून का बहाव ही कम् हो तो पोषण कैसे मिलेगा। इसके लिए
बालों की मसाज करना एक अच्छा हल है। मालिश धीरे-धीरे गोलाई में करें, ज़ोर-ज़ोर से नहीं। कसरत करना भी खून के
दौरे को बढ़ाने में बहुत उपयोगी होता है।

बाल झड़ने का कोई एक कारण नहीं हैं, इस लिए इस समस्या का हल भी एक नहीं है। शुद्ध, रसायन-मुक्त तेल और शैम्पू
का प्रयोग, सही आहार और कुछ सावधानियां, इन सब पर उचित ध्यान देने से बाल झड़ने की समस्या को मात डाली जा
सकती है।

परगट सिंह
टांडा उरमूर, पंजाब